समकालीन कहानी और स्वांत-सुखाय लेखन की जुगलबंदी ० डॉ. नीरज दइया

    निशात आलम ‘दख़ल’ का पहला कहानी संग्रह है- ‘रसवाला’। संग्रह में दस कहानियां और एक लघुकथा संकलित है। यहां उल्लेखनीय है कि कवि दख़ल की पांच काव्य-कृतियां प्रकाशित हुई हैं, तथा शीघ्र प्रकाश्य 23 किताबों के नाम अंतिम फ्लैल पर दिए गए हैं। पुस्तक में ‘दो शब्द’ के अंतर्गत कहानीकार निशात आलम ‘दख़ल’ लिखते हैं- “मेरे जीवन में कहानी का उदय मात्र एक वर्ष की अवधि में हुआ। चार कहानियां लिख कर छोड़ दीं। जिसमें से दो प्रकाशित हुई जिन्हें लेकर प्रशंसा के कई मोबाइल आए एसएमएस आए, तब मैंने अनुभव किया कि जो लिखा गया है वह सफल रहा शंका समाधान हुई। मित्रों ने कहा दस कहानियां लिख लो एक प्य्स्ताक के रूप में कहानी संग्रह तैयार हो जायेगा। मुझे कठिन लग रहा था चुप होकर बैठा था, मैं जीवन में कभी हताश नहीं हुआ समय-समय पर आत्मप्रेरणा मिलती गई।”
    कहा जा सकता है कि किसी भी रचना के लिए प्रेरणा-प्रोत्साह के साथ आत्मप्रेरणा ही वह घटक है जिससे सृजन होता है। सृजन को निरंतरता मिलती है। यह स्वांत-सुखाय लेखन का ही प्रमाण है कि कवि दख़ल की इतनी कृतियां अब तक अप्रकाशित है और उन में ‘लावारिस’ नामक कहानी संग्रह भी शामिल है। इस संग्रह में इसी नाम से एक कहानी भी संकलित है। पाठकों और मित्रों के विचार निसंदेह किसी भी लेखक के लिए महत्त्वपूर्ण होते हैं किंतु उससे भी महत्त्वपूर्ण होता है जिस विधा में सृजन किया जाए उस विधा को जानाना। कहानी, आत्मकथा, संस्मरण आदि अनेक विधाएं अपने अनुशासन की मांग तो करती हैं। कवि दख़ल जब कहानी लिखते हैं तो उन्हें अपने कवि को भीतर से कम से कम इतना तो बाहर निकला ही देना चाहिए कि वह कहानी में अपना शेर ना सुनाने लगे। कहानी में जो कुछ कहना है वह महज सृजित पात्रों और परिवेश आदि के द्वारा ही कहना है। उपदेश और आदर्श में कहानी में अनावश्यक कहानीकार की चपलता से कहानी का शिल्प बाधित होता है।
    निशात आलम ‘दख़ल’ की इन कहानियों में तकनीकी खामियों के रहते भी जो बात बेहद प्रभावित करती है वह इन कहानियों की पठनीयता है। कहानी का वितान किसी उपन्यास की भांति फैला हुआ अनेक घटना प्रसंगों को लिए हुए है। साथ ही कहानी में कहानी सुनने-सुनाने की प्रविधि अंतर्निहित है। ‘वचन’ कहानी में ठाकुर-ठकुरानी के दौर की एक मार्मस्पर्शी ऐतिहासिक कथा जैसी प्रतीत होती है, जहां वचन को धर्म के रूप में सक़फ़ द्वारा निभाना प्रभावित करता है। कहानी ‘मेरा कन्हैया’ की आधार भूमि कहानीकर ‘दख़ल’ की देखी-भोगी प्रतीत होती है। लगता है कि उन्होंने जैसे अपने जीवन के किसी घटना-प्रसंग को ही सिलसिलेवार प्रस्तुत कर दिया है। ‘मणिधर नागिन’ कहानी हमें दूसरे लोक में ले जाती है। यह कहानी रोमांच और रहस्य से भरी हुई है। ‘स्वार्थ’ कहानी को एक परिपूर्ण लघुकथा कहा जा सकता है।   
    कहानी संग्रह का शीर्षक ‘रसवाला’ असल में कहानी ‘कवि रसवाला’ से प्रेरित है, जो कहानी कम कवि रसवाला का साक्षात्कार अधिक प्रतीत होती है। ऐसा नहीं है कि कहानी में इस अथवा अन्य विधाओं का प्रयोग संभव नहीं, किंतु यहां स्वयं के शेरों-शायरी से कहानी का मूल उद्देश्य विचलित होता है और कहानी विधा की सीमाओं का अतिक्रमण करती है। कहानी में शिल्प और भाषा का महत्त्व होता है। भाषा की बानगी के लिए इसी कहानी का अंतिम अंश देखा जा सकता है- “किसी को कष्ट देना, अधिकार छीनना, बेईमानी, विश्वासघात, आदि पाप कर्म हैं। किसी की सेवा करना, सन्तुष्ट कर देना, तृष्णा मिटा देना, प्रसन्न चित कर देना आत्म तृप्ति कर देना कर्म है। जिनको पुनः समझाता हूं कहते हुए चल दिए। मस्ती के साथ लम्बे-लम्बे डग भरते हुए जैसे उनको कोई आकर्षण खींच रहा है पता नहीं महाकवि उपन्यासकार, कहानीकार, शायर, शहंशाह यानी कवि रसवाला कहां गए। अब कब मिलेंगे या नहीं मिलेंगे? कुछ पता नहीं परंतु जाते-जाते कटु अनुभव करा गए। चरित्र का, सौंदर्य का, मधुशाला का, मधुबाला का, दामने दाग़ का, संसार का, कवियों का, जीवन का, डुपलीकेट का, समय हाथ मार जाता है, रैगज़ीन का, कवि रसवाले को बहुत-बहुत धन्यवाद।”
     कहानीकार के पास कहने को बहुत कुछ है और वह बहुत कुछ कहता है किंतु संग्रह की कहानियों में डायरी, संस्मरण और आत्मकथा के अंश कहानी में परिवर्तित नहीं हुए हैं। जैसे ‘पवित्रता’ कहानी की पंक्तियां देखें- ‘1975 में मेरा व्यापार जोधपुर से हटकर झूंझनूं एवं हिसास की तरफ हो गया।’ (पृष्ठ-16); ‘सन्‍  1977 की बात होगी मैं घूमता हुआ चिड़ावा की सड़क पर जा रहा था’ (पृष्ठ-17); ‘उसने कहा- पूरे 35 वर्ष व्यतीत हो चुके हैं, मैं एक दिन भी तुमको नहीं भूली, तुम भूल गए।’ (पृष्ठ-20); ‘रात्रि के 11 बज चुके थे। मैंने कहा- सो जाओ। मैं अपने मंत्रों के उच्चारण में लग गया। रात्रि के 3 बजे सोया। लगभग सुबह के 5 बजे होंगे, कुछ-कुछ अंधेरा था। ऐसा लगा मेरे पैर कोई छू रहा है। (पृष्ठ-21) कहनी में स्वीटी और कथानायक के पवित्र प्रेम का विमर्श लंबा चलता है और कहानी के अंत में आदर्श स्थिति के साथ कवि की कुछ पंक्तियां दर्ज हैं जो उनके हृदय पर बन आती है! कहानी ‘धर्म पुत्रियां’ में भी ऐसा ही एक प्रसंग है जिसमें आधुनिकता के साथ बदलती मानसिकता के साथ नायक की आदर्श छवि प्रस्तुत की गई है। कहानी ‘पानी-पतासा’ भी प्रेम केंद्रित कहनी है जिसमें ट्रीटमेंट के स्तर पर अंत में किसी फिल्म की भांति नायक नायिका का मरणोपरांत नई दुनिया में मिलन दिखाया गया है।
    संग्रह की भूमिका में साहित्यकार शिवचरण सेन ‘शिवा’ ने इस प्रथम कहानी पर कहानीकार का उत्साहवर्द्धन करते हुए भाषा-पक्ष के विषय में संकेत किया है- ‘निशात आलम दख़ल ने अपनी संपूर्ण कहानियों में कथ्य, भाव, संवाद के धरातल पर प्रतिष्ठित कर भाषा-शैली में हिंदी-उर्दू के समन्वय का रंग भी अजब ही भरा है। सरलता, सुबोधता, हृदयगम्यता की दृष्टि से दख़ल जी की कहानियां बेहद सफल बन पड़ी है। कमी है तो बस इतनी कि वाक्यों में कहीं-कहीं तारतम्य का आभाव है।’ उम्मीद है कि आगामी संग्रह में समकालीन कहानी और स्वांत-सुखाय लेखन की जुगलबंदी बेहतर होगी।
००००
० रसवाला (कहानी संग्रह) निशात आलम ‘दख़ल’ ; प्रकाशक- बोधि प्रकाशन, एफ-77, सेक्टर-9, रोड नं.- 11. करतारपुरा, इंडस्ट्रियल एरिया, बाईस गोदाम, जयपुर ;  संस्करण- 2016 ; मूल्य- 200/- ; पृष्ठ- 120